>Superb News! होम्योपैथिक दवाई से करे 1 महीने में 5 किलो वज़न कम

Superb News! होम्योपैथिक दवाई से करे 1 महीने में 5 किलो वज़न कम

वज़न कम करना सबसे लोकप्रिय स्वास्थ्य विषयों में से एक है। ऐसा लगता है कि लगभग हर कोई अपने जीवन के किसी न किसी मोड़ पर यह पता लगाने की कोशिश करता है कि वजन कैसे कम किया जाए, और ऐसे कई तरीके हैं जिनसे आप वजन कम कर सकते हैं। कुछ लोग अपने आहार में बदलाव करते हैं और कुछ लोग अपने व्यायाम को अगले स्तर तक ले जाने की कसम खाते हैं। यदि आप “वजन घटाने” के लिए गूगल करते हैं, तो आप वजन घटाने के लिए होम्योपैथिक उपचार सहित वजन कम करने के तरीकों के बारे में विभिन्न विकल्प होते है।

हालांकि, जो तरीका एक व्यक्ति के लिए काम करता है वह दूसरे के लिए काम नहीं करता। ऐसा इसलिए है क्योंकि अलग-अलग शरीर अलग-अलग चीजों पर अलग-अलग तरीके से प्रतिक्रिया करते हैं, इसलिए यदि आप किसी ऐसे व्यक्ति को देखते हैं जो सप्ताह में 4 दिन योग करता है और 5 किलो वज़न कम कर लेता है, तो इसका मतलब यह नहीं है कि आप अपने साथ भी ऐसा ही होने की उम्मीद कर सकते हैं।

दुनिया भर में कई लोग मोटापे से जूझ रहे हैं और इससे उबरने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। दुर्भाग्य से, वजन कम करने के लिए कोई ‘चमत्कारी गोली’ नहीं है। हालांकि, मोटापे को दूर करने की कोशिश कर रहे लोगों में होम्योपैथी बहुत मददगार रही है। होम्योपैथी का उपयोग आपके वजन बढ़ने की समस्या का समाधान हो सकता है!

HOME REMEDIES
Image by Fuzzy Rescue from Pixabay

वजन कम करने में मदद करने वाले कुछ सामान्य होम्योपैथिक उपचार

होम्योपैथिक उपचार आपके पाचन (Digestion) और चयापचय (Metabolism) गतिविधियों में सुधार करने में सहायता करते हैं। आपके शारीरिक, भावनात्मक और मानसिक स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए, होम्योपैथिक दवाई ने आश्चर्यजनक वजन घटाने के परिणाम दिखाए हैं:

1.कैल्केरिया कार्बोनिका (Calcarea carbonica):

कैल्केरिया कार्बोनिका उन लोगों के लिए है जिनका चयापचय (Metabolism) धीमा है, गोल-मटोल दिखते हैं और जिनका अधिकांश वजन पेट के क्षेत्र में अतिरिक्त वसा के कारण है। ये लोग आमतौर पर सुस्त चयापचय गतिविधि के कारण कब्ज से पीड़ित होते हैं और यदि आपको अत्यधिक पसीना आता है, खासकर रात में, यह दवा मदद कर सकती है। यह दवा मोटे बच्चों की भी मदद कर सकती है। यदि आपके निम्न लक्षण हैं, तो कैल्केरिया कार्बोनिका आपके लिए सही हो सकती है:

– अत्यधिक चिंता का स्तर
– रात में डरना
– सांस लेने में कठिनाई
– माथे और हथेली में पसीना आना
– खाने के बाद दुबारा भूख लगना

टिप: थायरॉइड की समस्या और गर्भावस्था के कारण वजन बढ़ाने वाले लोगों में भी कैल्क कार्ब का इस्तैमाल किया जाता है। किसी व्यक्ति की उचित जाँच और डॉक्टर के सलाह के बाद ही इस होम्योपैथिक दवाई का प्रयोग किया जा सकता है। मैं होम्योपैथी के बिना प्रबंधन नहीं कर सकता। वास्तव में, मैं कभी भी होम्योपैथिक उपचार के बिना कहीं नहीं जाता। मैं अक्सर उनका उपयोग करता हूं।

2 नक्स वोमिका (Nux Vomica) :

नक्स वोमिका उन लोगों को दी जाती है जो एक गतिहीन जीवन (Sedentary life style) जी रहे हैं और जिनको गलत खान-पान की आदतें हैं और यह मोटापे और अत्यधिक वजन के सबसे आम कारणों में से एक है। आप अक्सर कब्ज से पीड़ित रहते है। ऐसे में नक्स वोमिका आपकी मदद करने में सक्षम है। यदि आप निम्न अनुभव करते हैं तो इस उपाय को डॉक्टर के सलाह लेकर आज़मा सकते है :

– कब्ज
– ठंड के प्रति असहनशीलता
– मसालेदार और तले हुए भोजन की लालसा
– अचानक गुस्सा

Top 10 Superb एक्सरसाइज से करे वज़न और मोटापा कम- Turn fat into fit
Image by Mary Pahlke from Pixabay

3 फाइटोलैक्का (Phytolacca):

फाइटोलैक्का मुख्य रूप से भूख पैटर्न को विनियमित करने और भोजन के उचित पाचन में सहायता करने का कार्य करता है। यह शरीर के हार्मोन और चयापचय प्रक्रिया को भी संतुलित करता है। यदि आप अत्यधिक वजन का सामना कर रहे हैं और इन निच्चे बताई गई स्थितियों का अनुभव कर रहे हैं तो यह होम्योपैथिक दवा आपकी मदद कर सकती है।

– निगलने में कठिनाई
– व्यथा (Soreness)
– गला सुखना
– आपके पूरे शरीर में खुजली होना
– जीभ पे छाले (फफोले)
– साइटिक की (sciatica) दर्द
– पीली त्वचा

फाइटोलैक्का बेरी टैबलेट डॉ. विलमर श्वाबे की फाइटोलैक्का बेरी की गोलियां वसा (Fat) और चयापचय (Metabolism) के नियमन में मदद करती हैं, वजन कम करती हैं और बिना किसी कमजोरी के इसे बनाए रखती हैं। यह व्यक्ति की भूख को कम कर देती है। यह होम्योपैथिक दवा उन महिलाओं के लिए भी जिनका वज़न बच्चे के जन्म के बाद बढ़ जाता है। वजन घटाने के लिए 1-2 गोलियां दिन में तीन बार ली जा सकती हैं। साथ ही अभी तक इस दवा का कोई साइड-इफेक्ट नहीं है।

4 नेट्रम म्यूरिएटिकम (Natrum Muriaticum):

नेट्रम म्यूरिएटिकम उन लोगों के लिए है जिनके शरीर के निचले हिस्सों जैसे नितंबों और जांघों में चर्बी जमा होती है। यह उपाय मुख्य रूप से उन लोगों के लिए है जिन्हें अत्यधिक भूख, नमक की लालसा और सिरदर्द और माइग्रेन होता है। दिल टूटने के बाद या डिप्रेशन के दौर में इन लोगों का वजन बढ़ने लगता है। निच्चे लिखे लक्षणों के लिए यह दवाई बहुत लाभकारी है।

– गर्मी के साथ बेचैनी
– अवसाद और तनाव के कारन वजन बढ़ना
– शरीर में खून की कमी
– अधिक नमक खाने का मन करना
– डिप्रेशन में रोना होम्योपैथी बीमारियों के लिए सबसे सुरक्षित और सबसे विश्वसनीय तरीका है और 100 से अधिक वर्षों से स्थापित चिकित्सा पद्धति के हमलों का सामना कर रहा है।

5 लाइकोपोडियम (Lycopodium):

लाइकोपोडियम मोटापा कम करने के लिए सबसे उपयोगी होम्योपैथिक उपचारों में से एक है। इसका उपयोग मुख्य रूप से तब किया जाता है जब जाँघों और नितंबों के क्षेत्रों में अतिरिक्त चर्बी होती है, जैसा कि नैट्रम मूर के साथ होता है। हालांकि, यह उन लोगों के लिए निर्धारित है जिन्हें गैस्ट्रिक और लीवर की समस्याओं के कारण वजन की समस्या है। इनमें मीठा खाने की इच्छा होने की प्रवृत्ति होती है। वे गर्म पीना और गर्म भोजन खाना पसंद करते हैं। वे अपनी क्षमता से बहुत अधिक खाने की प्रवृत्ति दिखाते हैं, जिसके परिणामस्वरूप पेट फूला हुआ होता है।

भावनात्मक रूप से, वे चिड़चिड़े होते हैं और आसानी से क्रोधित हो जाते हैं। हाइपोथायरायडिज्म के कारण अत्यधिक वजन वाले रोगियों के लिए भी लाइकोपोडियम एक अच्छा विकल्प है।

6 ग्रेफाइट्स (Graphites):

यदि आप अपने शरीर को अत्यधिक वसा से छुटकारा दिलवाना चाहते हैं तो यह दवा बहुत अच्छी है। यदि आप निम्न लक्षणों का अनुभव करते हैं तो इस होम्योपैथिक दवा का प्रयोग करें:
– अनियमित मासिक चक्र
– थकान
– उदासी
– खुजली
– अत्यधिक गैस
– पेट दर्द
– जननांग (genitals) में सूजन

Top 10 Superb एक्सरसाइज से करे वज़न और मोटापा कम- Turn fat into fit
Image by Beverly Buckley from Pixabay

7 फुकस वेसिकुलोसस (Fucus Vesiculosus):

वजन घटाने के लिए फुकस वेसिकुलोसस एक और बेहतरीन उपाय है। इस उपाय का प्रयोग तब किया जाता है जब वजन बढ़ना या मोटापा मुख्य रूप से थायरॉइडिज्म के कारण होता है। यह होम्योपैथिक दवाई थायराइड हार्मोन को नियंत्रित कर वजन घटाने में मदद करती है। किसी भी अन्य उपचार की तरह, फुकस भी पाचन को बनाए रखने में मदद करता है और कब्ज और पेट फूलने से राहत दिलाता है। यह उपाय आमतौर पर मदर टिंचर के रूप में दिया जाता है जो तरल रूप में होता है। इस दवाई की 10 से 15 बूंदों को दिन में दो बार लिया जा सकता है।

व्यायाम और स्वस्थ आहार (परहेज़)

होम्योपैथिक उपचारों का उपयोग करते समय व्यायाम और स्वस्थ आहार आपकी दिनचर्या का हिस्सा बन जाना चाहिए। आप होम्योपैथिक उपचार को व्यायाम या स्वस्थ खाने के विकल्प के रूप में नहीं चुन सकते । याद रखें होम्योपैथिक उपचार लेते समय व्यायाम करना और स्वस्थ आहार रखना आपके वजन घटाने क्रिया को भी बढ़ा सकता है।

यह लेख केवल सूचना के उद्देश्यों के लिए है और इसका उद्देश्य किसी भी चिकित्सीय स्थिति का निदान या उपचार करना नहीं है। अपने चिकित्सक से परामर्श करें यदि आपको कोई चिकित्सीय समस्या है या यदि आप अपनी दिनचर्या में कोई पूरक या दवाएँ शामिल करने पर विचार कर रहे हैं। यदि आपको ये लेख अच्छा लगा हो तो लाईक करें, कॉमेंट करें और अपने मित्र परिवार के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद!

Translate »
Home remedies for Piles | Hemorrhoids Official trailer: Tu Jhoothi Main Makkaar New Punjabi Movies 2023 JEE Main 2023 Result Link Sidharth Malhotra Lands In Jaisalmer