Guru Ramdas Ji- Inspiring 4th Guru's जीवनी

50+ Inspiring Guru Ramdas Ji Quotes That Will Change Your Life

Guru Ramdas Ji Quotes – श्री गुरु राम दास जी (1534-1581) सिख धर्म के दस गुरुओं में से चौथे थे। गुरु राम दास जी का जन्म सन 1534 में लाहौर शहर में हुआ था और उनका जन्म का नाम जेठा था। 12 साल की उम्र में भाई जेठा सिक्खों के तीसरे गुरु श्री गुरु अमर दास जी से मिले। तब से, भाई जेठा ने परम भक्ति और विनम्रता के साथ गुरु अमर दास जी और सिख आबादी की सेवा की।

वर्षों से भाई जेठा की सेवा और बलिदान की भावना के अधीन होने के बाद, 1574 के वर्ष में, गुरु अमर दास जी ने भाई जेठा जी का नाम बदलकर राम दास (“भगवान का सेवक”) कर दिया, और उन्हें श्री गुरु राम दास के रूप में नियुक्त किया।

श्री गुरु राम दास जी ने भारतीय शास्त्रीय संगीत के 30 विभिन्न रागों में 638 पवित्र भजनों की रचना की। इन भजनों को पवित्र ग्रंथ श्री गुरु ग्रंथ साहिब के भीतर संकलित किया गया है। अपने लेखन के माध्यम से, गुरु राम दास जी ने संपूर्ण मानव जाति के लिए एक सामान्य संदेश साझा किया, विनम्रता से भरा अनुशासित जीवन जीने के लिए, और सच्चे गुरु (भगवान) के लिए हमेशा आभारी रहने के लिए।

50+ Inspiring Guru Ramdas Ji Quotes That Will Change Your Life
Designed by healthandothers.com

Inspiring Guru Ramdas Ji Quotes

1 वह गुरुमुख जिस पर प्रभु कृपा करते हैं, भगवान के नाम का जप करते हैं और जीवन का खेल जीत जाते हैं। – गुरु राम दास जी
That Gurumukh unto whom the Lord becomes merciful, chants the Lord’s name and wins the game of life. – Guru Ram Das Ji

2 प्रिय स्वयं संगीतकार है, और वाद्य यंत्र है; नौकर नानक अपने कंपन को कंपन करते हैं। – गुरु राम दास जी
The beloved himself is the musician, and the musical instrument; servant Nanak vibrates his vibration. – Guru Ram Das Ji

3 मूर्ख नहीं जानता, वह (भगवान) जो देता है; इसके बजाय, वह उपहारों से चिपक जाता है। – गुरु राम दास जी
The fool does not know, the One (God) who gives; instead, he clings to the gifts. – Guru Ram Das Ji

4 कुछ के दिल में क्रूरता है – वे लगातार क्रूरता में काम करते हैं। जैसे वे रोपते हैं, वैसे ही वे फल भी खाते हैं जो वे खाते हैं। – गुरु राम दास जी
Some have cruelty in their hearts – they constantly act in cruelty; as they plant, so are the fruits which they eat. – Guru Ram Das Ji

5 जहरीले सांप को अगर ज्यादा मात्रा में दूध पिला दिया जाए तो भी वह सिर्फ जहर ही देगा। – गुरु राम दास जी
Even if the poisonous snake is fed large amount of milk, it will still yield only poison. – Guru Ram Das Ji

6 चिंता न करें – निर्माता को इसका ख्याल रखने दें। यहोवा जल और भूमि के सब प्राणियों को देता है। मेरे भगवान बिना मांगे ही अपना आशीर्वाद देते हैं, यहां तक ​​कि मिट्टी और पत्थरों के कीड़ों को भी। – गुरु राम दास जी
Don’t worry – let the creator take care of it. The lord gives to all creatures in the water and on the land. My God bestows his blessings without being asked, even to worms in soil and stones. – Guru Ram Das Ji

7 सभी को समान दृष्टि से देखें, और सभी में व्याप्त परमात्मा को पहचानें। – गुरु राम दास जी
Look upon all with equality, and recognize the Supreme Soul, the Lord, pervading among all. – Guru Ram Das Ji

8 मेरा मन हरि के दर्शन के लिए इतनी गहरी तरसता है, जिस तरह एक प्यासा आदमी ठंडा पानी पीने के लिए तरसता है। – गुरु राम दास जी
My mind yearns so deeply for the vision of Hari, the way a thirsty man yearns for a drink of cool water. – Guru Ram Das Ji

9 यहोवा के सिवा कोई तुझे मार या छुड़ा नहीं सकता; तो तुम चिंता क्यों करते हो, हे मेरे मन। – गुरु राम दास जी
Other than the Lord, no one can kill you or save you; so why do you worry, O my mind. – Guru Ram Das Ji

10 मैं पापों और दोषों से भरा हुआ हूँ; मुझमें कोई गुण या गुण नहीं है।
मैंने अमृत अमृत को त्याग दिया, और मैंने इसके बजाय जहर पी लिया।
मैं माया में आसक्त हूं, और संदेह से मोहित हूं; मुझे अपने बच्चों और जीवनसाथी से प्यार हो गया है।
मैंने सुना है कि सबसे श्रेष्ठ मार्ग संगत, गुरु की मंडली है।
इसके साथ जुड़ने से मृत्यु का भय दूर हो जाता है।
कीरत कवि यह एक प्रार्थना प्रस्तुत करता है: हे गुरु राम दास, मुझे बचाओ!
मुझे अपने अभयारण्य में ले चलो!

I am overflowing with sins and demerits; I have no merits or virtues at all.
I abandoned the Ambrosial Nectar, and I drank poison instead.
I am attached to Maya, and deluded by doubt; I have fallen in love with my children and spouse.
I have heard that the most exalted Path of all is the Sangat, the Guru’s Congregation.
Joining it, the fear of death is taken away.
Keerat the poet offers this one prayer: O Guru Raam Daas, save me!
Take me into Your Sanctuary!

11 मलार महला ੪ ॥ गंगा जमुना गोदावरी सरस्वती और करही उदमु धुरी साधु की ताई॥ हमरी मेलू साधु की धुरी ग्वाई में किल्विक मेलु भरे पारे हमराई ॥੧॥
Malaar, Fourth Mehl: The Ganges, the Jamunaa, the Godaavari and the Saraswati – these rivers strive for the dust of the feet of the Holy. Overflowing with their filthy sins, the mortals take cleansing baths in them; the rivers’ pollution is washed away by the dust of the feet of the Holy. ||1|| Guru Ramdas Ji Quotes

12 तीर्थ अथस्थथी मजनू ॥ नाई सत्संगती की धुरी पर उड़ी नेत्री सब दुर्मति मेलू गवई ॥੧॥ रहउ ॥
Instead of bathing at the sixty-eight sacred shrines of pilgrimage, take your cleansing bath in the Name. When the dust of the feet of the Sat Sangat rises up into the eyes, all filthy evil-mindedness is removed. ||1||Pause|| Guru Ramdas Ji Quotes

13 जाहरनवी तपाई भागीरथी अनी केदारु थापियो महसाई ॥ कांस्य कृष्णा चरवत गौ मिल्ली हरि जन शोभा पाई ॥੨॥
Bhaageerat’h the penitent brought the Ganges down, and Shiva established Kaydaar. Krishna grazed cows in Kaashi; through the humble servant of the Lord, these places became famous. ||2|| Guru Ramdas Ji Quotes

14 जितने तीर्थ देवी थापे सबी शीर्षक लोचही धुरी साधु की ताई ॥ हरि का संतू मिली गुरु साधु ले तीस की धुरी मुख लाइ ॥੩॥
And all the sacred shrines of pilgrimage established by the gods, long for the dust of the feet of the Holy. Meeting with the Lord’s Saint, the Holy Guru, I apply the dust of His feet to my face. ||3|| Guru Ramdas Ji Quotes

15 जितना तुम मेरे भगवान हो, मैं चाहता हूं कि तुम एक संत बनो॥ साधु धुरी के हर तरफ से आपने जो गीत लिखा और पारित किया, उससे नानक को आशीर्वाद मिले ॥੪॥੨॥
And all the creatures of Your Universe, O my Lord and Master, long for the dust of the feet of the Holy. O Nanak, one who has such destiny inscribed on his forehead, is blessed with the dust of the feet of the Holy; the Lord carries him across. ||4||2|| Guru Ramdas Ji Quotes

16 हाथी कर तंतु वजावई जोगी थोथर वजई बेन गुरमती हरि गुना बोल्हु जोगी इहु मनुआ हरि रंगी भें ॥੧॥
You may pluck the strings with your hand, O Yogi, but your playing of the harp is in vain. Under Guru’s Instruction, chant the Glorious Praises of the Lord, O Yogi, and this mind of yours shall be imbued with the Lord’s Love. ||1|| Guru Ramdas Ji Quotes

17 जोगी हरि देहु मति उपदेसु ॥ जुगु जुगु हरि हरि एको वर्ताई तिसु अगै हम अदेसु॥੧॥ रहउ ॥
O Yogi, give your intellect the Teachings of the Lord. The Lord, the One Lord, is pervading throughout all the ages; I humbly bow down to God. ||1||Pause|| Guru Ramdas Ji Quotes

18 गवाही राग भाति बहू बोलिह इहु मनुआ खेले खेल जोविह ॥ कोप सिंचन कौ बसुधा उठी बेल गए चारी बेल ॥੨॥
You sing in so many Ragas and harmonies, and you talk so much, but this mind of yours is only playing a game. You work the well and irrigate the fields, but the oxen have already left to graze in the jungle. ||2|| Guru Ramdas Ji Quotes

19 काया नगर में करम हरि बोहु हरि जमाई हरिया खेतू ॥ मनुआ अस्तिरु बैलु मनु जोवाहु हरि सिंचहु गुरमती जेतु ॥੩॥
In the field of the body, plant the Lord’s Name, and the Lord will sprout there, like a lush green field. O mortal, hook up your unstable mind like an ox, and irrigate your fields with the Lord’s Name, through the Guru’s Teachings. ||3|| Guru Ramdas Ji Quotes

20 जोगी जंगम सृष्टि सब तुम्हारी जो देहु माटी टीटू चेल॥ जन नानक के प्रभा अंतरजामी हरि लवहू मनुआ पेल॥੪॥੯॥੬੧॥
The Yogis, the wandering Jangams, and all the world is Yours, O Lord. According to the wisdom which You give them, so do they follow their ways. O Lord God of servant Nanak, O Inner-knower, Searcher of hearts, please link my mind to You. ||4||9||61|| Guru Ramdas Ji Quotes

50+ Inspiring Guru Ramdas Ji Quotes That Will Change Your Life
Designed by healthandothers.com

21 आसा महला ੪ ॥ सत्संगती मिले, हरि साधु संगति हरि गुण गाई से मिले॥ ज्ञान का रत्न जल जाता है, अज्ञान का प्रकाश अंधकारमय हो जाता है॥੧॥
Aasaa, Fourth Mehl: Join the Sat Sangat, the Lord’s True Congregation; joining the Company of the Holy, sing the Glorious Praises of the Lord. With the sparkling jewel of spiritual wisdom, the heart is illumined, and ignorance is dispelled. ||1|| Guru Ramdas Ji Quotes

22 हरि जन नचहू हरि हरि ध्यान॥ ऐसे ही एक संत मिले थे मेरे भाई हम जान के धोवा पाई॥੧॥ रहउ ॥
O humble servant of the Lord, let your dancing be meditation on the Lord, Har, Har. If only I cold meet such Saints, O my Siblings of Destiny; I would wash the feet of such servants. ||1||Pause|| Guru Ramdas Ji Quotes

23 हरि हरि नामु जपहु मन मेरे शाश्वत जीवन॥ जो इछु सोई फ्लू पहु फिर बुख ना लगाय ऐ ॥੨॥
Meditate on the Naam, the Name of the Lord, O my mind; night and day, center your consciousness on the Lord. You shall have the fruits of your desires, and you shall never feel hunger again. ||2|| Guru Ramdas Ji Quotes

24 नानाकू आखी ना राजि हर गुना जिउ है तीउ खू पाई ॥ भक्ति भंडार के हरि अपुन गुण ग्राहक का व्यवसाय लेते हैं॥੪॥੧੧॥੬੩॥
Nanak is not satisfied by chanting the Lord’s Glorious Praises; the more he chants them, the more he is at peace. The Lord has bestowed the treasure of devotional love; God’s customers purchase virtues, and carry them home. ||4||11||63|| Guru Ramdas Ji Quotes

25 रागु सूही महला ४ छंत घरु १
ੴ सतिगुर प्रसादि ॥
सतिगुरु पुरखु मिलाइ अवगण विकणा गुण रवा बलि राम जीउ ॥ हरि हरि नामु धिआइ गुरबाणी नित नित चवा बलि राम जीउ ॥ गुरबाणी सद मीठी लागी पाप विकार गवाइआ ॥ हउमै रोगु गइआ भउ भागा सहजे सहजि मिलाइआ ॥ काइआ सेज गुर सबदि सुखाली गिआन तति करि भोगो ॥ अनदिनु सुखि माणे नित रलीआ नानक धुरि संजोगो ॥१॥

26 सतु संतोखु करि भाउ कुड़मु कुड़माई आइआ बलि राम जीउ ॥ संत जना करि मेलु गुरबाणी गावाईआ बलि राम जीउ ॥ बाणी गुर गाई परम गति पाई पंच मिले सोहाइआ ॥ गइआ करोधु ममता तनि नाठी पाखंडु भरमु गवाइआ ॥ हउमै पीर गई सुखु पाइआ आरोगत भए सरीरा ॥ गुर परसादी ब्रहमु पछाता नानक गुणी गहीरा ॥२॥

27 मनमुखि विछुड़ी दूरि महलु न पाए बलि गई बलि राम जीउ ॥ अंतरि ममता कूरि कूड़ु विहाझे कूड़ि लई बलि राम जीउ ॥ कूड़ु कपटु कमावै महा दुखु पावै विणु सतिगुर मगु न पाइआ ॥ उझड़ पंथि भ्रमै गावारी खिनु खिनु धके खाइआ ॥ आपे दइआ करे प्रभु दाता सतिगुरु पुरखु मिलाए ॥ जनम जनम के विछुड़े जन मेले नानक सहजि सुभाए ॥३॥

28 आइआ लगनु गणाइ हिरदै धन ओमाहीआ बलि राम जीउ ॥ पंडित पाधे आणि पती बहि वाचाईआ बलि राम जीउ ॥ पती वाचाई मनि वजी वधाई जब साजन सुणे घरि आए ॥ गुणी गिआनी बहि मता पकाइआ फेरे ततु दिवाए ॥ वरु पाइआ पुरखु अगमु अगोचरु सद नवतनु बाल सखाई ॥ नानक किरपा करि कै मेले विछुड़ि कदे न जाई ॥४॥१॥

29 रागु बिलावलु महला ४ घरु ३
ੴ सतिगुर प्रसादि ॥
उदम मति प्रभ अंतरजामी जिउ प्रेरे तिउ करना ॥ जिउ नटूआ तंतु वजाए तंती तिउ वाजहि जंत जना ॥१॥
जपि मन राम नामु रसना ॥ मसतकि लिखत लिखे गुरु पाइआ हरि हिरदै हरि बसना ॥१॥ रहाउ ॥
माइआ गिरसति भ्रमतु है प्रानी रखि लेवहु जनु अपना ॥ जिउ प्रहिलादु हरणाखसि ग्रसिओ हरि राखिओ हरि सरना ॥२॥
कवन कवन की गति मिति कहीऐ हरि कीए पतित पवंना ॥ ओहु ढोवै ढोर हाथि चमु चमरे हरि उधरिओ परिओ सरना ॥३॥
प्रभ दीन दइआल भगत भव तारन हम पापी राखु पपना ॥ हरि दासन दास दास हम करीअहु जन नानक दास दासंना ॥४॥१॥

30 कुछ भी उम्मीद करना महत्वपूर्ण नहीं है, नकारात्मक अनुभव सहित, हर अनुभव को लेने के लिए, पथ पर केवल कदमों के रूप में, और आगे बढ़ना महत्वपूर्ण है।

31 बिना शर्त प्यार वास्तव में हम में से प्रत्येक में मौजूद है। यह हमारे गहरे आंतरिक अस्तित्व का हिस्सा है। यह इतनी सक्रिय भावना नहीं है जितनी कि होने की स्थिति। यह इस या उस कारण से ‘आई लव यू’ नहीं है, न कि ‘मैं तुमसे प्यार करता हूँ अगर तुम मुझसे प्यार करते हो।’ यह अकारण प्रेम है, बिना वस्तु का प्रेम।

32 आपको सिर्फ अपने होने के लिए प्यार किया जाता है, सिर्फ मौजूदा होने के लिए। इसे कमाने के लिए आपको कुछ करने की जरूरत नहीं है। आपकी कमियां, आपके आत्मसम्मान की कमी, शारीरिक पूर्णता, या सामाजिक और आर्थिक सफलता – इनमें से कोई भी मायने नहीं रखता। इस प्यार को आपसे कोई नहीं छीन सकता और यह हमेशा रहेगा।

33 गुरुवर तुम चन्दन हम पानी
मेरे रोम-रोम में आपकी दया समानी
प्रभु तुम मोती हम धागा
जैसे सोने में मिलता सुहागा।

34 ख़ुशी आपकी है खुद आप ही में
बाहर उसको न कभी तलाश कर
किसी और के साथ ना करे अपनी तुलना
गुरु राम दास जी की ये शिक्षा न भूलना।

35 सत्य और धर्म का दिया ज्ञान गुरु ने
प्रगति-पथ पर हरदम हमें बढाया
सदा सिमरन करो प्रभु का
सुख-शांति का गुरु ने पाठ पढाया।

36 “जब विश्वास काफी मजबूत होता है, तो उसका होना ही काफी होता है। यह सरलता की ओर, वैराग्य की ओर, एक ऐसे आनंद की ओर है जो समय पर नहीं होता है। यह एक यात्रा है जो हमें हमारे शरीर और हमारे मानस के साथ प्राथमिक पहचान से, भगवान के साथ एक पहचान की ओर ले गई है, और अंततः पहचान से परे है।” Guru Ramdas Ji Quotes

37 “कुछ भी उम्मीद नहीं करना महत्वपूर्ण है, हर अनुभव को नकारात्मक सहित, केवल रास्ते पर कदम के रूप में लेना और आगे बढ़ना महत्वपूर्ण है।” Guru Ramdas Ji Quotes

38 “जैसे-जैसे हम अपनी चेतना में बढ़ते हैं, अधिक करुणा और अधिक प्रेम होगा, और फिर लोगों के बीच, धर्मों के बीच, राष्ट्रों के बीच की बाधाएं गिरने लगेंगी। हां, हमें अलगाव को खत्म करना होगा।” Guru Ramdas Ji Quotes

39 “दर्द मन है। यह मन के विचार हैं। तब मैं विचारों से मुक्त हो जाता हूं, और मैं अपनी गवाही में मिलता हूं, जो मेरे आध्यात्मिक हृदय में है। साक्षी जो साक्षी है। फिर वे विशेष विचार जो पीड़ादायक हैं – उनसे प्रेम करो। मैं उन्हें मौत तक प्यार करता हूँ!” Guru Ramdas Ji Quotes

Guru Ramdas Ji- Inspiring 4th Guru's जीवनी
Photo by Peter Chirkov on Unsplash

40 “जब आप पहले से ही डेट्रॉइट में हैं, तो आपको वहां पहुंचने के लिए बस लेने की ज़रूरत नहीं है।” Guru Ramdas Ji Quotes

41 “आपकी समस्या यह है कि आप अपनी अयोग्यता को पकड़ने में बहुत व्यस्त हैं।” Guru Ramdas Ji Quotes

42 “स्ट्रोक से पहले, मैं एक बहुत ही आध्यात्मिक विमान पर था। मैंने अपने शरीर की उपेक्षा की, इसे मान लिया। जब मैं अपने जीवन को देखता हूं, तो मैं देखता हूं कि मैं भौतिक तल, मनोवैज्ञानिक तल से मुक्त होना चाहता था, और जब मैं उनसे मुक्त हुआ, तो मैं उनके पास कहीं नहीं जाना चाहता था। लेकिन स्ट्रोक ने मुझे याद दिलाया कि मेरे पास एक शरीर और एक दिमाग है, कि मुझे उनका सम्मान करना है।” Guru Ramdas Ji Quotes

43 “हमारी योजनाएँ कभी भी वास्तविकता की तरह स्वादिष्ट नहीं होती हैं।” Guru Ramdas Ji Quotes

44 “केवल आप में, जो मैं हूं, वही सुन सकता हूं जो मैं कह रहा हूं।” Guru Ramdas Ji Quotes

45 “हम में से प्रत्येक अपने ज्ञान को दूसरों के साथ साझा करने के लिए अपना अनूठा वाहन ढूंढता है।” Guru Ramdas Ji Quotes

46 “बुद्धिमान बनने के लिए दुख हमारे प्रशिक्षण कार्यक्रम का हिस्सा है।” Guru Ramdas Ji Quotes

47 “आइए सराहना करने के लिए हमारे सभी निर्णयों में व्यापार करें। आओ हम अपनी धार्मिकता को त्यागें और एक साथ रहें।” Guru Ramdas Ji Quotes

48 “अगला संदेश जो आपको चाहिए वह हमेशा वहीं होता है जहां आप होते हैं।” Guru Ramdas Ji Quotes

49 “हम अक्सर ऐसे रिश्तों में आते हैं जो हमारी ज़रूरतों से बहुत अधिक पहचाने जाते हैं। मुझे इसकी जरूरत है, मुझे सुरक्षा चाहिए, मुझे शरण चाहिए, मुझे दोस्ती चाहिए। और सभी रिश्ते उस अर्थ में सहजीवी हैं। हम एक साथ आते हैं क्योंकि हम किसी न किसी स्तर पर एक-दूसरे की जरूरतों को पूरा करते हैं।” Guru Ramdas Ji Quotes

50 “जब मैं अपने और दूसरों के रिश्तों को देखता हूं, तो मुझे लोगों के एक साथ रहने और उनके एक साथ रहने के तरीकों की एक विस्तृत श्रृंखला दिखाई देती है। मैं उन तरीकों को देखता हूं जिनमें एक रिश्ता – जिसका अर्थ कुछ ऐसा है जो दो या दो से अधिक लोगों के बीच मौजूद है – अधिकांश भाग के लिए व्यक्तिगत संस्थाओं के रूप में लोगों की अलगाव को मजबूत करता है।” Guru Ramdas Ji Quotes

51 “जब मैं शादियाँ करता था, तो मेरी छवि हमेशा एक त्रिभुज की छवि थी, जिसमें दो साथी होते हैं और फिर यह तीसरी शक्ति होती है, यह तीसरी शक्ति होती है, जो इन दोनों की बातचीत से निकलती है। तीसरा वह है जो साझा जागरूकता है जो उन दोनों के पीछे है। ” Guru Ramdas Ji Quotes

52 “हमारे अधिकांश मानवीय रिश्तों में, हम अपना अधिकांश समय एक दूसरे को आश्वस्त करने में बिताते हैं कि हमारी पहचान की वेशभूषा सीधी है।” Guru Ramdas Ji Quotes

HAO
INSPIRATION

Leave a Comment

Your email address will not be published.

 - 
English
 - 
en
Punjabi
 - 
pa
Hindi
 - 
hi
Mesmerizing टूरिस्ट अट्रैक्शन in North इंडिया Success Quotes Navratri Celebrations CUET-UG results by September 15 NTA UGC NET Admit Card 2022