> Inspiring 100+ Swami Vivekananda Quotes In Hindi

Inspiring 100+ Swami Vivekananda Quotes In Hindi

स्वामी विवेकानंद – बहु-कुशल, प्रसिद्ध शिक्षक, हिंदू भिक्षु का जन्म 1863 में एक विशेषाधिकार प्राप्त बंगाली परिवार में नरेंद्रनाथ दत्ता के रूप में हुआ था। उन्होंने वेदांत और योग की अवधारणा को पश्चिमी दुनिया में पेश किया। हिंदू धर्म को एक प्रमुख विश्व धर्म का दर्जा दिलाने में उनके अनुकरणीय कार्य के कारण, उन्हें भारत में एक देशभक्त संत के रूप में देखा जाता है, और उनके जन्मदिन को राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाया जाता है। हम HAO में Swami Vivekananda Quotes लेकर आए हैं जो आपको प्रेरित करेंगे।

Self Confidence Swami Vivekananda Quotes

  • “कभी मत सोचो कि आत्मा के लिए कुछ भी असंभव है। ऐसा सोचना सबसे बड़ा पाखंड है। यदि पाप है, तो यही पाप है; यह कहना कि तुम कमजोर हो, या दूसरे कमजोर हैं।” – Swami Vivekananda Quotes
  • “खड़े हो जाओ, निर्भीक बनो, और दोष अपने कंधों पर लो। दूसरों पर कीचड़ मत उछालो; आप सभी दोषों के लिए, आप एकमात्र और एकमात्र कारण हैं।” – Swami Vivekananda Quotes
  • “पृथ्वी पर वीरों का भोग है – यह अमोघ सत्य है। वीर बनो। हमेशा कहो, मुझे कोई डर नहीं है।” – Swami Vivekananda Quotes
  • “किसी चीज से मत डरो। तुम अद्भुत कार्य करोगे। यह निर्भयता ही है जो क्षण भर में स्वर्ग ले आती है।” – Swami Vivekananda Quotes
  • “स्वयं पर विजय प्राप्त करें और पूरा ब्रह्मांड आपका है।” – Swami Vivekananda Quotes
  • “स्वतंत्र होने का साहस करें, जहां तक आपको लगता है वहां तक जाने का साहस करें, और उसे अपने जीवन में उतारने का साहस करें।” – Swami Vivekananda Quotes
  • “नकारात्मक आत्मा पर मुहर लगाओ जैसे कि यह एक महामारी थी।” – Swami Vivekananda Quotes
  • “मस्तिष्क और मांसपेशियों को एक साथ विकसित होना चाहिए। एक बुद्धिमान मस्तिष्क के साथ लोहे की नसें – और पूरी दुनिया आपके चरणों में है।” – Swami Vivekananda Quotes
  • “न खोजो न टालो, जो आता है उसे ग्रहण करो।” – Swami Vivekananda Quotes
  • “सबसे बड़ा पाप यह सोचना है कि आप कमजोर हैं।” – Swami Vivekananda Quotes
Inspiring 100+ Swami Vivekananda Quotes In Hindi
Designed by healthandothers.com

Motivational Swami Vivekananda Quotes

  • “सारी शक्ति आपके भीतर है। आप कुछ भी और सब कुछ कर सकते हैं। उस पर विश्वास करें। विश्वास न करें कि आप कमजोर हैं; यह विश्वास न करें कि आप अर्ध-पागल पागल हैं, जैसा कि आजकल हम में से अधिकांश करते हैं। खड़े हो जाओ और दिव्यता को व्यक्त करो।” तुम ही मै।” – Swami Vivekananda Quotes
  • “ब्रह्मांड की सभी शक्तियाँ पहले से ही हमारी हैं। यह हम ही हैं जिन्होंने अपनी आँखों के सामने हाथ रखा है और रोते हैं कि यह अंधेरा है।” – Swami Vivekananda Quotes
  • “कुछ मत पूछो, बदले में कुछ मत चाहो। जो देना है दे दो; वह तुम्हारे पास वापस आएगा, लेकिन अभी उसके बारे में मत सोचो।” – Swami Vivekananda Quotes
  • “कुछ मत सोचो, कुछ मत जानो, कुछ मत करो, कुछ मत रखो, सब कुछ ईश्वर को सौंप दो, और पूरी तरह से कहो, ‘तेरा काम हो जाएगा।’ हम केवल इस बंधन का सपना देखते हैं। जागो और इसे जाने दो।” – Swami Vivekananda Quotes
  • “यदि अंधविश्वास प्रवेश करता है, तो मस्तिष्क चला जाता है।” – Swami Vivekananda Quotes
  • “वह आदमी अमरता तक पहुँच गया है जो किसी भौतिक चीज़ से परेशान नहीं है।” – Swami Vivekananda Quotes
  • “आप जो कुछ भी मानते हैं, वह आप होंगे, यदि आप अपने आप को युगों-युगों का मानते हैं, तो आप कल होंगे। आपको बाधा देने के लिए कुछ भी नहीं है।” – Swami Vivekananda Quotes
  • “किसी दिन, जब आपके सामने कोई समस्या न आए – आप सुनिश्चित हो सकते हैं कि आप गलत रास्ते पर यात्रा कर रहे हैं।” – Swami Vivekananda Quotes

Success Swami Vivekananda Quotes In Hindi

  • “आपको एक स्वामी के रूप में कार्य करना चाहिए न कि एक दास के रूप में; निरन्तर काम करते रहो, परन्तु दास का काम न करो।” – Swami Vivekananda Quotes
  • “यदि धन मनुष्य को दूसरों का भला करने में मदद करता है, तो इसका कुछ मूल्य है; लेकिन यदि नहीं, तो यह केवल बुराई का एक ढेर है, और जितनी जल्दी इससे छुटकारा मिल जाए, उतना ही अच्छा है।” – Swami Vivekananda Quotes
  • “मुक्त होने का साहस करें, जहां तक आपके विचार जाते हैं वहां तक जाने का साहस करें और उसे अपने जीवन में उतारने का साहस करें।” – Swami Vivekananda Quotes
  • “जो कुछ भी कमजोर बनाता है – शारीरिक, बौद्धिक और आध्यात्मिक रूप से, उसे जहर के रूप में त्याग दें।” – Swami Vivekananda Quotes
  • “किसी चीज से डरो मत। आप अद्भुत कार्य करेंगे। यह निर्भयता ही है जो एक क्षण में भी स्वर्ग ले आती है।” – Swami Vivekananda Quotes
  • “प्रत्येक कार्य को इन चरणों से गुजरना पड़ता है – उपहास, विरोध और फिर स्वीकृति। जो लोग अपने समय से आगे सोचते हैं वे निश्चित रूप से गलत समझे जाते हैं।” – Swami Vivekananda Quotes
  • “अगर आप अपने आप को शक्तिशाली समझोगे तो आप शक्तिशाली बन जाओगे।” – Swami Vivekananda Quotes
  • “एक समय में एक काम करो, और ऐसा करते समय अपनी पूरी आत्मा को उसमें डाल दो, बाकी सब कुछ छोड़कर।” – Swami Vivekananda Quotes
  • “नेतृत्व करते हुए सेवक बनो। निस्वार्थ बनो। अनंत धैर्य रखें, और सफलता आपकी है।” – Swami Vivekananda Quotes
  • “सच्ची सफलता, सच्ची खुशी का महान रहस्य यह है: वह पुरुष या महिला जो बदले में कुछ भी नहीं मांगता है, पूरी तरह से निःस्वार्थ व्यक्ति, सबसे सफल है।” – Swami Vivekananda Quotes
  • “हम जो कुछ भी हैं उसके लिए हम जिम्मेदार हैं, और हम जो कुछ भी बनना चाहते हैं, हमारे पास खुद को बनाने की शक्ति है। यदि हम अभी जो कुछ भी हैं, यदि वह हमारे अपने पिछले कर्मों का परिणाम है, तो यह निश्चित रूप से अनुसरण करता है कि हम भविष्य में जो कुछ भी बनना चाहते हैं, वह हमारे वर्तमान कर्मों द्वारा निर्मित किया जा सकता है; इसलिए हमें यह जानना होगा कि कैसे कार्य करना है। – Swami Vivekananda Quotes

Education Swami Vivekananda Quotes

  • “प्रकृति के अस्तित्व का कारण ही आत्मा की शिक्षा है।” – स्वामी विवेकानंद सुविचार
  • “शिक्षा मनुष्य में पहले से विद्यमान पूर्णता की अभिव्यक्ति है।” – स्वामी विवेकानंद सुविचार
  • “अनुभव ही हमारा एकमात्र शिक्षक है। हम जीवन भर बातें और तर्क कर सकते हैं, लेकिन हम सत्य के एक शब्द को नहीं समझ पाएंगे।” – स्वामी विवेकानंद सुविचार
  • “एक मूर्ख संसार की सारी पुस्तकें खरीद सकता है, और वे उसके पुस्तकालय में होंगी; लेकिन वह केवल वही पढ़ पाएगा जिसके वह हकदार है।” – स्वामी विवेकानंद सुविचार
  • “दुनिया को अब तक जो भी ज्ञान मिला है वह मन से आता है; ब्रह्मांड का अनंत पुस्तकालय हमारे अपने दिमाग में है।” – स्वामी विवेकानंद सुविचार
  • “किताबें अनंत हैं और समय कम है। ज्ञान का रहस्य यह है कि जो आवश्यक है उसे ग्रहण कर लो। इसे लें और इसे जीने की कोशिश करें।” – स्वामी विवेकानंद सुविचार
  • “जो कुछ भी अच्छा है, उसे दूसरों से सीखो, लेकिन उसे अंदर लाओ, और अपने तरीके से उसे सोख लो; दूसरे मत बनो।” – स्वामी विवेकानंद सुविचार
  • “न धन से, न नाम से, न यश से, न विद्या से; यह चरित्र है जो कठिनाइयों की कठोर दीवारों को काट सकता है।” – स्वामी विवेकानंद सुविचार

Swami Vivekananda Quotes In Hindi

Inspiring 100+ Swami Vivekananda Quotes In Hindi
Image by Freepik
  • “दिल और दिमाग के बीच संघर्ष में, अपने दिल का पालन करें।” – स्वामी विवेकानंद उद्धरण
  • “किसी का या किसी चीज़ का इंतज़ार मत करो। आप जो कुछ भी कर सकते हैं, करें, अपनी आशा किसी पर न रखें। – स्वामी विवेकानंद उद्धरण
  • “आपको अंदर से बाहर बढ़ना है। कोई आपको पढ़ा नहीं सकता, कोई आपको आध्यात्मिक नहीं बना सकता। कोई और शिक्षक नहीं बल्कि आपकी अपनी आत्मा है। – स्वामी विवेकानंद उद्धरण
  • “किसी की निंदा मत करो: यदि तुम मदद के लिए हाथ बढ़ा सकते हो, तो ऐसा करो। यदि आप नहीं कर सकते हैं, तो अपने हाथ जोड़कर अपने भाइयों को आशीर्वाद दें और उन्हें अपने रास्ते जाने दें। – स्वामी विवेकानंद उद्धरण
  • “एक समय में एक काम करो, और इसे करते समय अपनी पूरी आत्मा को इसमें डाल दो, बाकी सभी को छोड़कर।” – स्वामी विवेकानंद उद्धरण
  • “हम वही काटते हैं जो हम बोते हैं। हम अपने भाग्य के निर्माता स्वयं हैं। किसी और का दोष नहीं है, किसी की प्रशंसा नहीं है। – स्वामी विवेकानंद उद्धरण
  • “यदि मैं अपनी अनंत कमियों के बावजूद खुद से प्यार करता हूं, तो मैं कुछ दोषों की झलक पाकर किसी से कैसे नफरत कर सकता हूं।” – स्वामी विवेकानंद उद्धरण
  • “कौन आपकी मदद कर रहा है, उन्हें मत भूलिए। जो आपसे प्यार कर रहा है, उनसे नफरत मत कीजिए। कौन तुम पर विश्वास कर रहा है, उन्हें धोखा मत दो। – स्वामी विवेकानंद उद्धरण
  • “दूसरों से जो कुछ भी अच्छा है उसे सीखो, लेकिन उसे अंदर लाओ, और अपने तरीके से उसे आत्मसात करो; दूसरे मत बनो। – स्वामी विवेकानंद उद्धरण
  • “यह हमारा अपना मानसिक दृष्टिकोण है जो दुनिया को बनाता है कि यह हमारे लिए क्या है। हमारे विचार चीजों को सुंदर बनाते हैं, हमारे विचार चीजों को बदसूरत बनाते हैं। पूरी दुनिया हमारे अपने दिमाग में है। चीजों को सही रोशनी में देखना सीखें।” – स्वामी विवेकानंद उद्धरण
  • “लोगों को उनके सबसे सामान्य कार्यों को करते हुए देखें; ये वास्तव में ऐसी चीजें हैं जो आपको एक महान व्यक्ति के वास्तविक चरित्र को बताएंगी।” – स्वामी विवेकानंद उद्धरण
  • “वास्तुकला और भवन के बीच का अंतर यह है कि पूर्व एक विचार व्यक्त करता है, जबकि उत्तरार्द्ध केवल आर्थिक सिद्धांतों पर निर्मित एक संरचना है। पदार्थ का मूल्य केवल उसके विचारों को व्यक्त करने की क्षमता पर निर्भर करता है।” – स्वामी विवेकानंद उद्धरण
  • “महान कार्य के लिए लंबे समय तक महान और निरंतर प्रयास की आवश्यकता होती है। …चरित्र को हजार ठोकरों से स्थापित करना पड़ता है।” – स्वामी विवेकानंद उद्धरण
  • “कुछ मत पूछो; बदले में कुछ नहीं चाहता। जो देना है दे दो; वह तुम्हारे पास लौट आएगा, परन्तु अभी उसके विषय में न सोचो।” – स्वामी विवेकानंद उद्धरण
  • “न तो खोजो और न ही टालो, जो आता है उसे ले लो।” – स्वामी विवेकानंद उद्धरण
  • “जब तक इच्छा या इच्छा है, यह एक निश्चित संकेत है कि अपूर्णता है। एक पूर्ण, मुक्त प्राणी की कोई इच्छा नहीं हो सकती।” – स्वामी विवेकानंद उद्धरण
  • “सफलता के लिए पवित्रता, धैर्य और दृढ़ता तीन आवश्यक हैं और सबसे बढ़कर, प्रेम।” – स्वामी विवेकानंद उद्धरण
  • “जब एक विचार विशेष रूप से मन पर कब्जा कर लेता है, तो यह एक वास्तविक भौतिक या मानसिक स्थिति में बदल जाता है।” – स्वामी विवेकानंद उद्धरण
  • “जितना अधिक हम बाहर आते हैं और दूसरों के लिए अच्छा करते हैं, उतना ही अधिक हमारे हृदय शुद्ध होंगे, और परमेश्वर उनमें बसेंगे।” – स्वामी विवेकानंद उद्धरण
  • “हमारा कर्तव्य है कि हम हर किसी को अपने स्वयं के उच्चतम विचार को जीने के संघर्ष में प्रोत्साहित करें, और साथ ही आदर्श को सत्य के जितना निकट हो सके बनाने का प्रयास करें।” – स्वामी विवेकानंद उद्धरण
  • “हम वो हैं जो हमें हमारी सोच ने बनाया है; इसलिए इस बात का ध्यान रखें कि आप क्या सोचते हैं। शब्द गौण हैं। विचार जीवित रहते हैं; वे दूर की यात्रा करते हैं। – स्वामी विवेकानंद उद्धरण
  • “हम जो कुछ भी हैं उसके लिए हम जिम्मेदार हैं, और हम जो कुछ भी बनना चाहते हैं, हमारे पास खुद को बनाने की शक्ति है। यदि हम अभी जो कुछ भी हैं, यदि वह हमारे अपने पिछले कर्मों का परिणाम है, तो यह निश्चित रूप से अनुसरण करता है कि हम भविष्य में जो कुछ भी बनना चाहते हैं, वह हमारे वर्तमान कर्मों द्वारा निर्मित किया जा सकता है; इसलिए हमें यह जानना होगा कि कैसे कार्य करना है।” – स्वामी विवेकानंद उद्धरण
  • “प्रत्येक कार्य को इन चरणों से गुजरना पड़ता है – उपहास, विरोध और फिर स्वीकृति। जो लोग अपने समय से आगे सोचते हैं वे निश्चित रूप से गलत समझे जाते हैं।” – स्वामी विवेकानंद उद्धरण
  • “आराम सत्य की परीक्षा नहीं है। सच्चाई अक्सर सहज होने से बहुत दूर होती है।” – स्वामी विवेकानंद उद्धरण
  • “जो आग हमें गर्म करती है वह हमें भस्म भी कर सकती है; यह आग का दोष नहीं है।” – स्वामी विवेकानंद उद्धरण
  • “जो कुछ भी कमजोर बनाता है – शारीरिक, बौद्धिक और आध्यात्मिक रूप से, उसे जहर के रूप में त्याग दें।” – स्वामी विवेकानंद उद्धरण
  • “एक विचार लो। उस एक विचार को अपना जीवन बना लो – उसके बारे में सोचो, उसके सपने देखो, उस विचार को जियो। मस्तिष्क, मांसपेशियों, नसों, आपके शरीर के हर हिस्से को उस विचार से भर दें, और बाकी सभी विचारों को अकेला छोड़ दें। यही सफलता का मार्ग है।” – स्वामी विवेकानंद उद्धरण
  • “सारी शक्ति तुम्हारे भीतर है; आप कुछ भी और सब कुछ कर सकते हैं। उस पर विश्वास करो, विश्वास मत करो कि तुम कमजोर हो; विश्वास मत करो कि तुम आधे-पागल पागल हो, जैसा कि आजकल हम में से अधिकांश करते हैं। आप कुछ भी और सब कुछ कर सकते हैं, यहां तक कि किसी के मार्गदर्शन के बिना भी। खड़े हो जाओ और अपने भीतर की दिव्यता को व्यक्त करो।” – स्वामी विवेकानंद उद्धरण
  • “कभी मत सोचो कि आत्मा के लिए कुछ भी असंभव है। ऐसा सोचना सबसे बड़ा पाखंड है। यदि पाप है, तो यही पाप है; यह कहना कि तुम कमजोर हो, या दूसरे कमजोर हैं।” – स्वामी विवेकानंद उद्धरण
  • “अपने आप पर विश्वास करो और दुनिया आपके चरणों में होगी।” – स्वामी विवेकानंद उद्धरण
  • “जो कुछ तुम सोचते हो वह तुम हो जाओगे। यदि तुम अपने को कमजोर सोचते हो, तो तुम कमजोर हो जाओगे; यदि आप अपने आप को शक्तिशाली समझते हैं, तो आप होंगे।” – स्वामी विवेकानंद उद्धरण
  • “प्रत्येक कार्य को इन चरणों से गुजरना पड़ता है: उपहास, विरोध और फिर स्वीकृति। जो लोग अपने समय से आगे सोचते हैं वे निश्चित रूप से गलत समझे जाते हैं।” – स्वामी विवेकानंद उद्धरण
  • “जीते वही हैं, जो दूसरों के लिए जीते हैं।” – स्वामी विवेकानंद उद्धरण
  • “पूरा जीवन सपनों का उत्तराधिकार है। मेरी महत्वाकांक्षा एक जागरूक स्वप्नद्रष्टा बनने की है, बस इतना ही।” – स्वामी विवेकानंद उद्धरण
  • “क्या महान कार्य कभी सुचारू रूप से किए जाते हैं? समय, धैर्य और अदम्यता अवश्य दिखानी चाहिए।” – स्वामी विवेकानंद उद्धरण
  • “पुस्तकें संख्या में अनंत हैं और समय कम है। ज्ञान का रहस्य यह है कि जो आवश्यक है उसे ग्रहण कर लो। इसे ले लो और इसे जीने की कोशिश करो।” – स्वामी विवेकानंद उद्धरण
  • “मानव मन की शक्ति की कोई सीमा नहीं है। यह जितना अधिक केंद्रित होता है, उतनी ही अधिक शक्ति एक बिंदु पर सहन करने के लिए लाई जाती है।” – स्वामी विवेकानंद उद्धरण
  • “स्वतंत्र होने का साहस करो, जहां तक तुम्हारे विचार जाते हैं वहां तक जाने का साहस करो, और उसे अपने जीवन में उतारने का साहस करो।” – स्वामी विवेकानंद उद्धरण
  • “एक विचार लो। उस एक विचार को अपना जीवन बना लो – उसके बारे में सोचो, उसके सपने देखो, उस विचार को जियो। मस्तिष्क, मांसपेशियों, नसों, आपके शरीर के हर हिस्से को उस विचार से भर दें, और बाकी सभी विचारों को अकेला छोड़ दें। यही सफलता का मार्ग है।” स्वामी विवेकानंद
  • “हम वो हैं जो हमें हमारी सोच ने बनाया है; इसलिए इस बात का ध्यान रखें कि आप क्या सोचते हैं। शब्द गौण हैं। विचार जीवित रहते हैं; वे दूर की यात्रा करते हैं।” स्वामी विवेकानंद
  • “उठना! जागना! और तब तक मत रुको जब तक लक्ष्य प्राप्त न हो जाए। स्वामी विवेकानंद आप तब तक ईश्वर में विश्वास नहीं कर सकते जब तक आप खुद पर विश्वास नहीं करते।” स्वामी विवेकानंद
  • “भय न होना ही अस्तित्व का संपूर्ण रहस्य है। कभी मत डरो कि तुम्हारा क्या होगा, किसी पर निर्भर मत रहो। केवल उसी क्षण जब आप सभी सहायता को अस्वीकार कर देते हैं, आप मुक्त हो जाते हैं।” स्वामी विवेकानंद
  • “संसार एक महान व्यायामशाला है जहाँ हम स्वयं को शक्तिशाली बनाने आते हैं।” स्वामी विवेकानंद
  • “एक शब्द में यह आदर्श है कि आप परमात्मा हैं। स्वामी विवेकानंद हमारा कर्तव्य है कि हम प्रत्येक व्यक्ति को उसके अपने उच्चतम विचार के अनुसार जीने के संघर्ष में प्रोत्साहित करें, और साथ ही आदर्श को सत्य के जितना निकट हो सके लाने का प्रयास करें।” स्वामी विवेकानंद
  • “वह मनुष्य अमरत्व तक पहुँच गया है जो किसी भौतिक वस्तु से परेशान नहीं है।” स्वामी विवेकानंद
  • “कभी मत सोचो कि आत्मा के लिए कुछ भी असम्भव है। ऐसा सोचना सबसे बड़ा पाखंड है। यदि पाप है, तो यही पाप है; यह कहना कि आप कमजोर हैं, या दूसरे कमजोर हैं।” स्वामी विवेकानंद
  • “जब कोई विचार विशेष रूप से दिमाग पर कब्जा कर लेता है, तो यह वास्तविक भौतिक या मानसिक स्थिति में बदल जाता है।” स्वामी विवेकानंद
  • “यदि धन मनुष्य को दूसरों का भला करने में मदद करता है, तो इसका कुछ मूल्य है; लेकिन यदि नहीं, तो यह केवल बुराई का एक ढेर है, और जितनी जल्दी इससे छुटकारा मिल जाए, उतना ही अच्छा है।” स्वामी विवेकानंद
  • “ईश्वर को एक प्यारे के रूप में पूजा जाना चाहिए, इस और अगले जीवन में सब कुछ से ज्यादा प्रिय।” स्वामी विवेकानंद
  • “इच्छा मुक्त नहीं है – यह कारण और प्रभाव से बंधी घटना है – लेकिन इच्छा के पीछे कुछ है जो मुक्त है।” स्वामी विवेकानंद
  • “वह जो हिंदुओं का ब्राह्मण है, पारसियों का अहुरा-मज्दा है, बौद्धों का बुद्ध है, यहूदियों का यहोवा है, ईसाइयों का स्वर्ग का पिता है, वह आपको अपने महान विचार को पूरा करने की शक्ति दे।” स्वामी विवेकानंद
  • “यदि स्वयं में विश्वास करना अधिक व्यापक रूप से सिखाया और अभ्यास किया गया होता, तो मुझे यकीन है कि बुराइयों और दुखों का एक बहुत बड़ा हिस्सा गायब हो गया होता।” स्वामी विवेकानंद
  • “वेदांत किसी पाप को नहीं मानता, वह केवल त्रुटि को मानता है। और सबसे बड़ी त्रुटि, वेदांत कहता है कि यह कहना है कि तुम कमजोर हो, कि तुम एक पापी हो, एक दुखी प्राणी हो, और यह कि तुम्हारे पास कोई शक्ति नहीं है और तुम यह और वह नहीं कर सकते।” स्वामी विवेकानंद
  • “बाहरी प्रकृति केवल आंतरिक प्रकृति बड़ी है।” स्वामी विवेकानंद
  • “किसी की निंदा न करें: यदि आप मदद के लिए हाथ बढ़ा सकते हैं, तो ऐसा करें। यदि आप नहीं कर सकते हैं, तो अपने हाथ जोड़कर अपने भाइयों को आशीर्वाद दें और उन्हें अपने रास्ते जाने दें।” स्वामी विवेकानंद
  • “इस दुनिया में सभी मतभेद स्तर के हैं, न कि प्रकार के, क्योंकि एकता ही हर चीज का रहस्य है।” स्वामी विवेकानंद
  • “जैसे अलग-अलग स्रोत वाली विभिन्न धाराएँ अपना जल समुद्र में मिला देती हैं, वैसे ही अलग-अलग प्रवृत्तियाँ, भले ही वे कितनी भी दिखाई दें, टेढ़ी या सीधी, सभी ईश्वर की ओर ले जाती हैं।” स्वामी विवेकानंद
  • “हम ईश्वर को खोजने कहां जा सकते हैं यदि हम उसे अपने हृदय में और प्रत्येक जीव में नहीं देख सकते।” स्वामी विवेकानंद
  • “जितना अधिक हम बाहर आएंगे और दूसरों का भला करेंगे, उतना ही अधिक हमारे हृदय शुद्ध होंगे, और परमेश्वर उनमें बसेंगे।” स्वामी विवेकानंद
  • “सत्य को एक हजार अलग-अलग तरीकों से कहा जा सकता है, फिर भी हर एक सत्य हो सकता है।” स्वामी विवेकानंद
  • “जिस क्षण मैंने प्रत्येक मानव शरीर रूपी मंदिर में भगवान को विराजमान पाया, जिस क्षण मैं प्रत्येक मनुष्य के सामने श्रद्धा से खड़ा हुआ और उसमें भगवान को देखा – उस क्षण मैं बंधनों से मुक्त हो गया, जो कुछ भी बांधता है वह मिट जाता है, और मैं मुक्त हो जाता हूं।” स्वामी विवेकानंद
  • “आपको अंदर से बाहर की तरफ बढ़ना होगा। कोई आपको पढ़ा नहीं सकता, कोई आपको आध्यात्मिक नहीं बना सकता। कोई और शिक्षक नहीं बल्कि आपकी अपनी आत्मा है।” स्वामी विवेकानंद
  • “ब्रह्मांड की सारी शक्तियां पहले से ही हमारी हैं। यह हम ही हैं जिन्होंने अपनी आंखों के सामने हाथ रखा है और रोते हैं कि अंधेरा है।” स्वामी विवेकानंद
  • “एक विचार लो। उस एक विचार को अपना जीवन बना लो – उसके बारे में सोचो, उसके सपने देखो, उस विचार को जियो। मस्तिष्क, मांसपेशियों, नसों, आपके शरीर के हर हिस्से को उस विचार से भर दें, और बाकी सभी विचारों को अकेला छोड़ दें। यही सफलता का मार्ग है।” स्वामी विवेकानंद
स्वामी विवेकानंद (1863) की Amazing जीवनी
Image by Freepik

Summary: स्वामी विवेकानंद के विचारों को हिंदी में पढ़ने के लिए धन्यवाद, उन्हें अपने परिवार और दोस्तों के साथ साझा करें।

Translate »
Home remedies for Piles | Hemorrhoids Official trailer: Tu Jhoothi Main Makkaar New Punjabi Movies 2023 JEE Main 2023 Result Link Sidharth Malhotra Lands In Jaisalmer