घर पर थायराइड (Thyroid) का इलाज करने के Superb 11 तरीके

घर पर थायराइड (Thyroid) का इलाज करने के Superb 11 तरीके

तितली के आकार की थायराइड ग्रंथि शरीर की अधिकांश चयापचय (Metabolic) प्रक्रियाओं के लिए जिम्मेदार होती है। इस ग्रंथि के आवश्यक कार्यों में थर्मोरेग्यूलेशन, हार्मोनल नियंत्रण और वजन नियंत्रण शामिल हैं। जिन लोगों को थायराइड की समस्या है, उन्हें समस्या से अधिक प्रभावी ढंग से निपटने में मदद करने के लिए घरेलू उपचारों की मदद लेनी चाहिए। चलीये जानते है कौन से घरेलू उपचार Thyroid को नियंत्रण में रखने में मदद करते है।

थायराइड (Thyroid) का इलाज करने के 11 घरेलू नुस्खे

1 थाइरोइड को कण्ट्रोल करने के लिए अदरक (Ginger) बहुत लाभकारी होता है

अदरक सबसे सुरक्षित थायराइड घरेलू उपचारों में से एक है क्योंकि यह आसानी से उपलब्ध होता है। अदरक पोटेशियम और मैग्नीशियम जैसे खनिजों में समृद्ध है जो सूजन से लड़ने में मदद करता है, सूजन थायराइड की समस्याओं के मुख्य कारणों में से एक। अदरक की चाय सबसे सुविधाजनक विकल्प है। इसे एक आवश्यक तेल के रूप में भी इस्तेमाल किया जा सकता है। अदरक को किसी भी तेल (उदाहरण के लिए नारियल का तेल) के साथ मिलाकर फिर उसे नहाने के पानी में मिलाकर इस्तैमाल किया जा सकता है।

2 दूध और डेयरी उत्पाद (Milk and Dairy Products) करे थाइरोइड की समस्या को दूर

दूध, पनीर, और दही सभी आयोडीन में उच्च होते हैं जो कि थायराइड के उचित कामकाज के लिए आवश्यक खनिज है। डेयरी उत्पादों का सेवन करने से विटामिन के स्तर को बढ़ाने में भी मदद मिलती है, जो थायराइड को कण्ट्रोल करने में मदद करता है।

3 बादाम (Almonds) करे थाइरोइड को कण्ट्रोल

ज्यादातर नट्स किसी न किसी तरह से शरीर के लिए फायदेमंद होते हैं। उचित थायराइड अभिव्यक्ति के लिए बादाम सबसे उपयुक्त हैं। वे प्रोटीन, फाइबर और खनिजों का एक अच्छा स्रोत हैं। बादाम में सेलेनियम होता है जो थायराइड के लिए स्वस्थ पोषक तत्व है। यह मैग्नीशियम से भी भरपूर होता है जो थाइरोइड ग्रंथि को बहुत ही सुचारू रूप से काम करने में सक्षम रखता है। रोज़ाना स्नैक्स के रूप में आधा मुट्ठी बादाम खाएं।

4 विटामिन डी (Vitamin D) करे थाइरोइड नियंत्रण में मदद

घर पर थायराइड (Thyroid) का इलाज करने के Superb 11 तरीके
Image by adamkontor from Pixabay

विटामिन डी की कमी से थायराइड की समस्या हो सकती है। चूंकि शरीर केवल सूर्य के संपर्क में आने पर ही इसका उत्पादन कर सकता है, इसलिए सुनिश्चित करें कि आपको रोजाना कम से कम 15 मिनट की धूप मिले। इससे कैल्शियम का बेहतर अवशोषण और शरीर की इम्युनिटी भी अच्छी होगी। कुछ खाद्य पदार्थ जो विटामिन डी से भरपूर होते हैं, वे हैं वसायुक्त मछलियाँ जैसे सैल्मन और मैकेरल, डेयरी उत्पाद, संतरे का रस और अंडे की जर्दी। अगर शरीर में विटामिन डी का स्तर बहुत कम है, तो सप्लीमेंट्स की जरूरत होगी। हालांकि, किसी को सतर्क रहना चाहिए और खुराक के बारे में डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए क्योंकि शरीर में बहुत अधिक विटामिन हानिकारक हो सकता है।

5 विटामिन बी (Vitamin B) करे थाइरोइड नियंत्रण में मदद

विटामिन थायराइड की समस्याओं के अंतर्निहित कारणों से लड़ने में मदद करते हैं। उचित थायराइड समारोह के लिए ‘बी’ परिवार से विटामिन आवश्यक हैं। विटामिन बी 12 हाइपोथायरायडिज्म से पीड़ित लोगों की मदद करने में विशेष रूप से सहायक है। अंडे, मांस, मछली, फलियां, दूध और अखरोट को दैनिक आहार में शामिल करने से विटामिन बी की निरंतर आपूर्ति में मदद मिल सकती है। चूंकि आहार दैनिक आवश्यकताओं को पूरा करने में सक्षम नहीं होता, इसलिए सप्लीमेंट्स (Supplements) लेने से मदद मिलेगी।

6 सेब का सिरका (Apple Cider Vinegar)

सेब का सिरका हार्मोन के संतुलित उत्पादन और अभिव्यक्ति में मदद करता है। यह चयापचय में सुधार करता है और शरीर के वातावरण को क्षारीय (Alkaline) करने में मदद करता है। सेब का सिरका शरीर की चर्बी को नियंत्रित करने, शरीर से विषाक्त पदार्थों को दूर करने और पोषक तत्वों के अवशोषण में मदद करता है। सेब के सिरके को शहद के साथ पानी में मिलाकर रोज सुबह लिया जा सकता है।

7 नारियल का तेल (Coconut Oil)

घर पर थायराइड (Thyroid) का इलाज करने के Superb 11 तरीके
Image by DanaTentis from Pixabay

नारियल के तेल में मीडियम-चेन फैटी एसिड होते हैं जो थायरॉयड ग्रंथि के बेहतर कामकाज में मदद करते हैं। नारियल का तेल, विशेष रूप से जब बिना गर्म किए लिया जाता है, तो वजन कम करने में मदद करता है, चयापचय को बढ़ाता है और शरीर के तापमान को संतुलित करता है। अन्य प्रकार के तेलों के विपरीत, नारियल के तेल में संतृप्त वसा (स्वस्थ) की उच्च सामग्री होती है। व्यायाम और उचित संतुलित आहार के सही संयोजन के साथ, नारियल का तेल थायराइड ग्रंथियों के लिए अच्छा होता है।

8 आयोडीन की खुराक (Supplements)

एक और चीज जो थायराइड के अनुचित कामकाज में काम करती है, वह है आयोडीन की खुराक लेना। यह उन लोगों के लिए अधिक महत्वपूर्ण हो जाता है जो शाकाहारी हैं। ये पूरक शरीर में आयोडीन के संतुलन को बहाल करते हैं और थायराइड स्वास्थ्य में मदद करते हैं।

9 नियमित रूप से व्यायाम (Exercise) करें

यह स्वस्थ थायराइड समारोह को बनाए रखने के सबसे महत्वपूर्ण और कभी-कभी अनदेखा पहलुओं में से एक है। दवाएं और प्राकृतिक उपचार अच्छे हैं, लेकिन इनका उपयोग नियमित व्यायाम के साथ किया जाना चाहिए। नियमित व्यायाम हार्मोनल संतुलन को बढ़ावा देता है और बेहतर वजन नियंत्रण में योगदान देता है, जो थायराइड के मुद्दों के उपचार में सहायता करता है। संतुलित आहार खाने और नियमित रूप से व्यायाम करने से थायराइड को कण्ट्रोल में किया जा सकता है। हार्मोनल संतुलन को बनाए रखने में पहला और सबसे महत्वपूर्ण कदम उचित आहार लेना है। थायराइड की समस्या सामान्य है और जीवनशैली में बदलाव से बहुत मदद मिल सकती है।

Top 10 Superb एक्सरसाइज से करे वज़न और मोटापा कम- Turn fat into fit
Image by Hannah Wells from Pixabay

भुजंगासन मुद्रा का अभ्यास करें क्योंकि यह गर्दन और गले के लिए बहुत अच्छा होता है जो थायरॉइड के कामकाज को और बढ़ाता है। तनाव कम करने की तकनीकों का अभ्यास करें क्योंकि पुराना तनाव विशेष रूप से महिलाओं में थायराइड विकार के प्राथमिक कारणों में से एक है। इसलिए मन और शरीर से नकारात्मक ऊर्जा या भावनाओं को बाहर निकालना बेहद जरूरी है। अनुलोम-विलोम, उज्जयी प्राणायाम और भ्रामरी प्राणायाम जैसे श्वास व्यायाम (प्राणायाम) आपको तनाव मुक्त करने में मदद कर सकते हैं, चिंता को कम कर सकते हैं और थायरॉयड ग्रंथि के लिए बहुत फायदेमंद हैं।

10 अश्वगंधा (Ashwagandha) करे

थाइरोइड को कण्ट्रोलअश्वगंधा थायराइड और एड्रेनल मुद्दों को ठीक करने के लिए प्रसिद्ध है। अश्वगंधा को एडाप्टोजेनिक जड़ी बूटी के रूप में जाना जाता है। एडाप्टोजेन जड़ी बूटियों का मतलब है कि वे आपको तनाव से निपटने और अनुकूलन करने में मदद करती हैं, और अश्वगंधा का उपयोग चीनी चिकित्सा में हजारों वर्षों से किया जाता रहा है। अश्वगंधा स्वाभाविक रूप से समग्र थायरॉयड स्वास्थ्य का समर्थन करने में सबसे प्रभावी हो सकता है, विशेष रूप से हाइपोथायरायडिज्म और हाशिमोटो के लिए एक प्राकृतिक उपचार के रूप में।

वास्तव में, इस पर किए गए अध्ययनों में, यह वास्तव में हाइपर और हाइपोथायरायड दोनों लक्षणों में मदद करने के लिए जाना जाता है, जो आश्चर्यजनक है। इसलिए, आपको अपने हाइपोथायरायडिज्म आहार में अश्वगंधा को जरूर शामिल करना चाहिए क्योंकि यह हाइपरथायरायडिज्म और हाइपोथायरायडिज्म के इलाज में मदद करता है।

11 घर पर बनाये चूरन जो करे थाइरोइड को कण्ट्रोल

– इसको बनाने के लिए आप सौंठ, जीरा, धनिया 10 ग्राम प्रत्येक और पुदीना और सौंफ 20 ग्राम प्रत्येक को मिलाकर घर पर पाउडर बना सकते हैं। इसका एक चम्मच लें भोजन के बाद दिन में दो बार गुनगुने पानी के साथ। या फिर आप जीवा आम पचक चूर्ण भी ले सकते हैं।

– त्रिकूट चूर्ण भी थाइरोइड में बहुत मददगार है। त्रिकटु चूर्ण आप घर पर बना सकते हैं। यह एक शास्त्रीय आयुर्वेदिक सूत्रीकरण है जो काली मिर्च और अदरक (सौंठ) से बनता है। इस चूर्ण की सभी सामग्री को बराबर मात्रा में पाउडर के रूप में मिलाकर बनाया जा सकता है। इसका आप 1/2 या 1 चम्मच ले सकते हैं। इस चूर्ण को गुनगुने पानी के साथ दिन में दो बार लें।

– देसी घी/तिल के तेल से गर्दन की मालिश करें। फिर गर्म पानी में एक तौलिये को डुबोकर कुछ देर के लिए अपने गले में लपेट लें।

– जलकुंभी और सहजन शरीर में आयोडीन के स्तर को बढ़ाने में मदद करते हैं।हालांकि ये उपचार विकार को रोकने और प्रबंधित करने में मदद कर सकते हैं, वे इस प्रश्न का समाधान नहीं हो सकते हैं

– ‘घर पर थायराइड का इलाज कैसे करें?’ प्रभावी उपचार और इलाज के लिए, आयुर्वेदिक चिकित्सक से परामर्श ज़रूर करें।

थायराइड के इलाज के लिए शीर्ष आयुर्वेदिक डॉक्टरों से सलाह लें। वे आपको थायराइड को ठीक करने के लिए बेहतर दवा और घरेलू उपचार का सुझाव देंगे।

HAO
HOME REMEDIES

Leave a Comment

Your email address will not be published.

 - 
English
 - 
en
Punjabi
 - 
pa
Hindi
 - 
hi
Mesmerizing टूरिस्ट अट्रैक्शन in North इंडिया Success Quotes Navratri Celebrations CUET-UG results by September 15 NTA UGC NET Admit Card 2022