>माइग्रेन के लक्षण और Amazing 20+ घरेलू उपचार

माइग्रेन के लक्षण और Amazing 20+ घरेलू उपचार

माइग्रेन के हमले सामान्य सिरदर्द नहीं होते हैं। आप तेज दर्द, मतली और प्रकाश और ध्वनि के प्रति संवेदनशीलता का अनुभव कर सकते हैं। जब माइग्रेन का दौरा या एपिसोड होता है, तो आप इसे दूर करने के लिए लगभग कुछ भी कर सकते हैं।

प्राकृतिक उपचार माइग्रेन के लक्षणों को कम करने के लिए दवा-मुक्त तरीके हैं। ये घरेलू उपचार माइग्रेन के हमलों की शुरुआत को रोकने में मदद कर सकते हैं या कम से कम उनकी गंभीरता और अवधि को कम करने में मदद कर सकते हैं। पढ़ना जारी रखें क्योंकि हम 15 प्राकृतिक उपचारों पर नज़र डालते हैं जो माइग्रेन के लक्षणों को प्रबंधित करने में आपकी मदद कर सकते हैं।

क्यों उठता है माइग्रेन का दर्द? 

आयुर्वेद के अनुसार हमारे खान-पान और जीवनशैली में बदलाव के कारण जब वात,पित्त और कफ दोषों में बदलाव होता है, तो अलग-अलग तरह के कारणों के साथ बीमारियां होने लगती हैं। वात के कारण सिरदर्द होने पर न्यूरोलॉजी से संबंधित समस्याएं बढ़ती हैं। जिसमें तेज दर्द शामिल है।

माइग्रेन के लक्षण और Amazing 20+ घरेलू उपचार
Photo by Aarón Blanco Tejedor on Unsplash

माइग्रेन के लक्षण

  • 4-72 घंटे तक चलने वाला सिरदर्द
  • हल्का सिर, ध्वनि और प्रकाश के प्रति संवेदनशीलता, प्रगतिशील दर्द का निर्माण।
  • ध्वनि, प्रकाश और गंध के प्रति संवेदनशीलता
  • उल्टी, बीमार महसूस करना
  • धुंधला दिखना
  • थकान
  • भोजन की लालसा या भूख की कमी
  • मनोदशा में बदलाव
  • गंभीर प्यास
  • सूजन
  • कब्ज या दस्त
  • साफ-साफ बोल नहीं पाना
  • अपनी बाहों और पैरों में भारीपन महसूस होना
  • आपके कान बजना

माइग्रेन के घरेलू उपाय

1 सेब का सिरका 

सेब का सिरका सिर दर्द के लिए अच्छा होता है। आप एक गिलास पानी में एक चम्मच सेब का सिरका और एक चम्मच शहद मिलाकर पी सकते हैं। इसे करीब 30 दिनों तक लगातार पीने से आराम मिलेगा। आप इसे तब ले सकते हैं जब आपको सिरदर्द हो या ऐसा महसूस हो। शरीर को साफ करने और शुगर और ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने के अलावा सेब का सिरका हड्डी और जोड़ों के दर्द में भी मदद कर सकता है। अगर सेब का सिरका उपलब्ध नहीं है तो आप सेब खा सकते हैं। महक वाले सेब भी मददगार हो सकते हैं।

2 पिपरमिंट माइग्रेन से राहत दिलाने में फायदेमंद

पुदीना में सूजन-रोधी गुण होते हैं और यह दिमाग को शांत और स्थिर करने में मदद कर सकता है। आप पुदीने की चाय पी सकते हैं या फिर आधा गिलास पानी में एक चम्मच शहद में पुदीने के तेल की कुछ बूंदें मिलाकर पी सकते हैं। पुदीने के तेल से सिर और माथे की 20-25 मिनट तक मालिश करने से भी लाभ होता है।

3 लैवेंडर का तेल

कुछ लोग सामान्य सिरदर्द और अधकपारी के दर्द दोनों में मदद के लिए लैवेंडर के तेल का उपयोग करते हैं। उनका मानना ​​है कि माइग्रेन के दर्द के लिए तेल की सुगंध बहुत मददगार होती है। आप गर्म पानी में लैवेंडर के तेल की कुछ बूंदें मिला सकते हैं, और फिर इसे सूंघकर यह महसूस कर सकते हैं कि यह कितना आराम देने वाला है।

4 तुलसी का तेल

अधिकांश लोग जानते हैं कि तुलसी तंत्रिकाओं को शांत करने और तनाव से राहत देने के लिए अच्छी है, लेकिन हम आपको बताना चाहते हैं कि यह माइग्रेन के इलाज के लिए भी अच्छा काम करती है। तुलसी के तेल का उपयोग करने से बहुत आराम मिलता है क्योंकि यह आपके सिर के आसपास की मांसपेशियों को आराम देता है जिससे आपको होने वाला दर्द कम हो जाता है।

5 अदरक

अदरक अधकपारी के दौरान मतली या उल्टी जैसे लक्षणों से राहत दिलाने में मदद करता है। यह सूजन और दर्द को भी कम करता है। अदरक को पानी में उबालकर ठंडा करके इसमें कुछ बूंदे शहद और नींबू की मिला सकते हैं। इस मिश्रण को पीने से लक्षणों से राहत पाने में काफी मदद मिल सकती है।

माइग्रेन के लक्षण और Amazing 20+ घरेलू उपचार
Image by Gerd Altmann from Pixabay

6 कॉफी

कॉफी एक ऐसा पेय है जो अधकपारी के दर्द से राहत दिलाने में मदद कर सकता है। कॉफी में मौजूद कैफीन एडेनोसिन नामक रसायन के प्रभाव को रोकता है। ज्यादा कॉफी पीना जहां हानिकारक हो सकता है, वहीं एक कप आपकी सेहत के लिए हानिकारक नहीं है।

7 धनिया

आज लगभग हर घर में धनिये का इस्तेमाल होता है, जो खाने को बेहतरीन स्वाद देता है और पचाने में मदद करता है। यह लंबे समय से खाना पकाने में मसाले के रूप में उपयोग किया जाता रहा है और विशेष रूप से सिरदर्द और अधकपारी के लिए अच्छा है। माइग्रेन से पीड़ित लोगों के लिए धनिया के बीज से बनी चाय बहुत मददगार होती है।

8 गाय का घी

माइग्रेन के दर्द से राहत दिलाने में गाय का घी बहुत मददगार होता है। यह शरीर और दिमाग में अतिरिक्त पित्त को संतुलित करने में मदद करता है। अगर आपको माइग्रेन का दर्द है तो आप गाय के घी का इस्तेमाल कर सकते हैं। गाय के घी को आप रोटी, चावल या सब्जी में डालकर खा सकते हैं। इसके अलावा अगर आपको माइग्रेन का दर्द है तो गाय के घी की दो बूंद नाक में डालने से आपको जल्दी आराम मिलेगा।

9 दालचीनी

दालचीनी तेज गंध वाला एक मसाला है। यह माइग्रेन के दर्द को कम करने में मदद कर सकता है। ऐसा करने के लिए दो चम्मच दालचीनी पाउडर को पानी के साथ मिलाकर गाढ़ा पेस्ट बना लें। फिर इस पेस्ट को 20 से 25 मिनट तक अपने माथे पर लगा रहने दें। इससे आपको माइग्रेन के दर्द से तुरंत राहत मिलेगी।

10 नींबू के छिलके

माइग्रेन के दर्द को कम करने के लिए आप नींबू के छिलके का इस्तेमाल कर सकते हैं। छिलकों को पीसकर पेस्ट बना लें। पेस्ट को अपने माथे पर लगाएं। नींबू की महक आपकी इंद्रियों को शांत करने में मदद करेगी।

11 कपूर

कपूर माइग्रेन के दर्द को कम करने में मदद कर सकता है। ऐसा करने के लिए आपको कपूर को पीसकर घी में मिलाना होगा। फिर आप इस मिश्रण को अपने माथे पर लगाएं और हाथों से मसाज करें। कपूर और घी की महक पित्त और गैस जैसे लक्षणों से राहत दिलाने में मदद कर सकती है।

12 बादाम, काली मिर्च और दूध

माइग्रेन के दर्द के इलाज के लिए आप बादाम, काली मिर्च और दूध के मिश्रण का उपयोग कर सकते हैं। ऐसा करने के लिए, आपको 5-6 भीगे हुए बादामों को छीलकर उन्हें अच्छी तरह से पीसना होगा। फिर इसके साथ तीन-चार काली मिर्च भी पीस लें। इसके बाद एक कप में पिसे हुए बादाम, काली मिर्च और दूध को एक साथ मिला लें। मिश्रण को उबाल आने तक उबालें, फिर इसमें एक चम्मच घी और एक चम्मच मिश्री मिलाएं। उबाल आने के बाद इसे ठंडा होने दें। इस मिश्रण को पीने से माइग्रेन के दर्द से राहत मिलेगी और आपकी आंखों की रोशनी में भी सुधार होगा।

13 गुड़ और दूध

कुछ लोगों का मानना ​​है कि गुड़ के साथ दूध पीने से अधकपारी के दर्द से राहत मिल सकती है। इसका सबसे अच्छा तरीका है कि आप रोज सुबह गुड़ का एक छोटा टुकड़ा मुंह में रखें और उसके ऊपर से ठंडा दूध पी लें। रोजाना ऐसा करने से माइग्रेन से राहत मिलेगी।

14 लौंग 

लौंग अधकपारी के लिए मददगार है। माइग्रेन होने पर लौंग के पाउडर में नमक मिलाकर दूध के साथ पिएं। इससे आपको माइग्रेन के दर्द से राहत मिलेगी।

15 नींद पूरी करें

अधकपारी से पीड़ित लोगों को अक्सर दर्द का अनुभव होता है क्योंकि वे पर्याप्त नींद नहीं ले पाते हैं। इसलिए माइग्रेन से पीड़ित लोगों के लिए यह महत्वपूर्ण है कि वे अच्छी मात्रा में नींद लें। जब लोग गहरी नींद लेते हैं तो माइग्रेन का दर्द बहुत कम हो जाता है। इसलिए कोशिश करें कि शोरगुल से दूर किसी शांत जगह पर सोने की कोशिश करें।

16  बर्फ की सिकाई

अधकपारी होने के पीछे असल में क्या बचा है इस बारे में आज तक पता नहीं चल पाया है। हालांकि कई बार यह तनाव के कारण होता है। यदि आपको काफी तेज दर्द है तो आप बर्फ की सिकाई कर सकती हैं। ऐसे में हीटिंग पैड के इस्तेमाल से काफी हद तक राहत मिलती है।

17 गर्म तेल की मालिश 

सरसों या नारियल के तेल को गर्म कर सर की मसाज करना माइग्रेन के दर्द में बहुत फायदेमंद है। सर के आलावा आप अपने पैरों-हाथों और कंधे पर भी मालिश करवाएं। यह तनाव कम करने और अधकपारी की समस्या को जल्द से जल्द ठीक करने में फायदेमंद घरेलू उपचार है।

18 हीटिंग पैड

वैसे तो आज तक अधकपारी की असल वजह के बारे में पता नहीं चल पाया है, लेकिन कई बार टेंशन के कारण भी माइग्रेन का दर्द होता है। ऐसे में हीटिंग पैड के इस्तेमाल से काफी हद तक राहत मिलती है।

19 खसखस की खीर

(khus khus ki kheer for migraine) तेज सिरदर्द या माइग्रेन के दर्द से आराम पाने के लिए खसखस के दाने कारगर माने जाते हैं। खसखस (Khus Khus) की ठंडी तासीर पेट को आराम दिलाती है और शरीर का टेम्परेचर भी संतुलित होता है। एसिडिटी या किसी डाइजेस्टिव समस्या की वजह से होने वाले अधकपारी से राहत पाने के लिए खसखस और मखाने को बराबर मात्रा में मिलाएं और दूध के साथ इसकी खीर बनाकर खाने से आराम मिलता है।

20 मक्खन और मिश्री

मक्खन में मिश्री को मिलाकर खाया जाए, तो इससे अधकपारी में राहत मिलती है। इसके अलावा, एक चम्मच अदरक के रस और शहद को मिक्स करके भी खाया जा सकता है, इससे भी जल्द राहत मिलती है।

21 रोजाना खूब पानी पिएं

रोजाना खूब पानी पीने की आदत डालें। यदि आप भरपूर मात्रा में पानी नहीं पीते हैं तो इससे आपके शरीर में डिहाइड्रेशन हो जाता है। इस स्थिति में सिरदर्द हो सकता है। कई रिसर्च के बाद एक्सपर्ट ने यह सुझाव दिया है कि डिहाइड्रेशन गंभीर सिरदर्द का कारण होता है। डिाहइड्रेशन से चिड़चिड़ापन होता है और आपकी एकाग्रता भी प्रभावित होती है। इसलिए, अपने शरीर को डिहाइड्रेशन से बचने के लिए हर दिन खूब पानी पिएं और पानी से भरपूर फल खाने की आदत डालें।

माइग्रेन के लक्षण और Amazing 20+ घरेलू उपचार
Image by Gerd Altmann from Pixabay

माइग्रेन के लक्षणों/हमलों को कम करने का सबसे तेज़ तरीका क्या है?

हर किसी की उपचार योजना अलग होती है, लेकिन अगर आपको लगता है कि अधकपारी का दौरा पड़ रहा है या आपके लक्षणों को प्रबंधित करना मुश्किल हो रहा है, तो कुछ रणनीतियाँ हैं जो मदद कर सकती हैं।

  1. एक अंधेरे कमरे में जाओ। जैसा कि पहले उल्लेख किया गया है, तेज रोशनी अक्सर माइग्रेन के हमलों के लिए एक ट्रिगर होती है। यदि आपके लक्षण खराब हो रहे हैं या यदि आपको लगता है कि कोई दौरा पड़ रहा है, तो एक अंधेरे कमरे की तलाश करें जहां आप तब तक आराम कर सकें जब तक कि लक्षण या दौरा बंद न हो जाए। अध्ययनों से पता चला है कि हरी बत्ती का एक विशिष्ट स्पेक्ट्रम हमले को कम कर सकता है।
  2. शोर को रोकें। जोर से और/या लगातार शोर से माइग्रेन का दौरा पड़ सकता है या बिगड़ सकता है। यदि किसी शोर ने हमला शुरू कर दिया है या लक्षण बिगड़ रहे हैं, तो लोगों और अन्य बाहरी ध्वनियों से दूर एक शांत जगह खोजने का प्रयास करें।
  3. तेज गंध से बचें। ओस्मोफोबिया, तेज गंध के प्रति संवेदनशीलता, माइग्रेन का एक सामान्य लक्षण है। इत्र, तीखे खाद्य पदार्थ, गैसोलीन और रासायनिक गंधों से बचने की कोशिश करना सबसे अच्छा है, क्योंकि ये गंध माइग्रेन के दौरे को ट्रिगर कर सकते हैं या दौरे को और खराब कर सकते हैं।
  4. तापमान कम करें और ठंडे रहें। ज़्यादा गरम करने से माइग्रेन हो सकता है, इसलिए यदि आप किसी हमले का अनुभव कर रहे हैं या हमले को महसूस कर रहे हैं, तो तापमान को कम रखने की कोशिश करें। एयर कंडीशनिंग इकाइयां और पंखे शांत रहने में मदद कर सकते हैं।

एक माइग्रेन डायरी रखें जिसमें उपरोक्त में से कौन आपके लक्षणों और हमलों में मदद करता है और उन्हें अपने डॉक्टर को बताएं।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q1 माइग्रेन के लिए कौन सा योग सबसे अच्छा है?
Ans: अधकपारी के लिए योगासन: 5 योगासन बिना साइड इफेक्ट के माइग्रेन के सिरदर्द का इलाज करते हैं

  • अधो मुख संवासन (नीचे की ओर कुत्ते की मुद्रा) वेंटुनो योग। …
  • प्रसारिता पदोत्तानासन (चौड़े पैरों वाला आगे की ओर झुकना) कीनोयोग। …
  • शिशुआसन (बाल मुद्रा)…
  • जनुशीर्षासन (सिर से घुटने तक की मुद्रा)…
  • हस्तपादासन (आगे की ओर झुकना मुद्रा)

Q2 माइग्रेन का मुख्य कारण क्या है?
Ans: अधकपारी का सटीक कारण अज्ञात है, लेकिन उन्हें असामान्य मस्तिष्क गतिविधि का परिणाम माना जाता है जो मस्तिष्क में तंत्रिका संकेतों, रसायनों और रक्त वाहिकाओं को अस्थायी रूप से प्रभावित करता है।

Q3 किस विटामिन की कमी से माइग्रेन होता है?
उत्तर: राष्ट्रीय सिरदर्द फाउंडेशन के अनुसार, बी विटामिन सिरदर्द से बचाने में मदद करते हैं, लेकिन यह बी2 (राइबोफ्लेविन) है जो वास्तव में सबसे अलग है और इसकी कमी से सिरदर्द हो सकता है।

Q4 आयुर्वेद माइग्रेन के बारे में क्या कहता है?
उत्तर: माइग्रेन को आयुर्वेद में सूर्यवर्त सूल के रूप में जाना जाता है, जहां सूर्य का अर्थ है सूर्य और अवार्थ का अर्थ है पीड़ा से उत्पन्न होना, इस प्रकार प्रकाश और गर्मी से दर्द का बढ़ना। हालांकि, माइग्रेन का सिरदर्द किसी व्यक्ति के व्यक्तिगत संविधान के अनुसार भिन्न हो सकता है।

Q5 क्या नींद की कमी से माइग्रेन हो सकता है?
Ans: आमतौर पर, नींद की कमी कुछ लोगों में सिरदर्द और अधकपारी को ट्रिगर करने के लिए जानी जाती है। माइग्रेन पीड़ितों के एक बड़े अध्ययन में, आधे ने कहा कि नींद की गड़बड़ी ने उनके सिरदर्द में योगदान दिया। और जो लोग औसतन रात में केवल छह घंटे सोते थे, उन्हें लंबे समय तक सोने वालों की तुलना में अधिक बार-बार और अधिक गंभीर सिरदर्द होता था।

Q6 क्या तनाव के कारण माइग्रेन होता है?
उत्तर: तनाव और माइग्रेन एक दुश्चक्र से जुड़े हुए हैं। आपके जीवन में तनाव अधकपारी को ट्रिगर कर सकता है और इसे जारी रख सकता है। क्रोनिक माइग्रेन का दर्द आपके तनाव को बढ़ा सकता है। माइग्रेन से पीड़ित 80% लोग तनाव को एक सामान्य ट्रिगर के रूप में सूचीबद्ध करते हैं।

Q7 क्या घी माइग्रेन में मदद करता है?
Ans: घी का इस्तेमाल डार्क सर्कल्स, फटे होंठों को दूर करने, रूखी त्वचा और रूखे बालों का इलाज करने के लिए भी किया जाता है। दिलचस्प बात यह है कि यह अधकपारी के इलाज के लिए भी एक कारगर उपाय है।

Q8 क्या पानी की कमी से माइग्रेन हो सकता है?
Ans: जो लोग हाइड्रेटेड नहीं होते हैं, उनमें हीट एक्जॉशन और अन्य हीट सिकनेस का खतरा अधिक होता है। निर्जलीकरण एक अधकपारी का सिरदर्द ट्रिगर (कारण) कर सकता है। अगर आपको माइग्रेन हो जाता है, तो खूब पानी पीना जरूरी है। हाइड्रेटेड रहने से आपको माइग्रेन के हमले को रोकने में मदद मिल सकती है।

Q9 क्या सेब माइग्रेन के लिए अच्छा है?
Ans: सुबह खाली पेट एक सेब खाने से माइग्रेन के दर्द से राहत मिलती है।

Q10 अधकपारी से बचने के लिए मुझे कितना पानी पीना चाहिए?
और फिर भी हम यह सुनिश्चित करके आसानी से निर्जलीकरण (और संभावित रूप से अधकपारी के हमलों को रोक सकते हैं) को रोक सकते हैं कि हम पर्याप्त तरल पदार्थ पीते हैं – विशेष रूप से पानी। सामान्य सलाह एक दिन में 2 लीटर पानी पीने की सलाह देती है।

डिस्क्लेमर:इस लेख में दी गयी बीमारी और घरेलू नुस्खों से जुड़ी सभी जानकारियां सूचनात्मक उद्देश्य से लिखी गयी है। किसी भी नुस्खे को आज़माने या किसी स्वास्थ्य समस्या के इलाज से जुड़े किसी भी निष्कर्ष तक पहुंचने के लिए कृपया किसी विशेषज्ञ का परामर्श ज़रूर लें।

Translate »
Home remedies for Piles | Hemorrhoids Official trailer: Tu Jhoothi Main Makkaar New Punjabi Movies 2023 JEE Main 2023 Result Link Sidharth Malhotra Lands In Jaisalmer